News

देश को लॉक डाउन की तरफ ले जाते भारत के लोग


आखिरकार हमने लगातार अपनी लापरवाही के चलते देश को एक बार फिर से लॉक डाउन की तरफ ले कर जा रहे है। आखिर क्या ऐसी मजबूरी है जिसके कारण हम अपनी अपने परिवार की और अपने पुरे देश को खतरे में डाल रहे है, जान जोखिम में डाल रहे है । आखिर क्या ऐसी मजबूरी है जिसके चलते हमने अपने साथ पुरे देश में गंभीर आर्थिक संकट पैदा कर दिया है। क्या आपको पता है की लॉक डाउन की वजह से पिछले साल लगभग ११ लाख लोगो की नौकरी चली गयी थी और वे लोग गरीबी रेखा के निचे चले गए है। Source : Moneycontrol.com

क्या अपने कभी सोचा है की किसी आप के लिए रोज अख़बार के नंबर किसी के माता -पिता भाई -बहिन है कभी एक बार शमशान जाकर देखिये, उन रोते बिलखते लोगो को देखिये जिन्होंने अपनों को खोया है। जिन्हे अपने परिजनों को मौत होने के बाद एक बार आखिरी दर्शन भी नसीब नहीं हुए है । कभी सोच कर देखिये उन परिवारों के बारे में जिनका पूरा परिवार ख़तम हो गया और उनके छोटे छोटे बच्चो की परवरिश करने वाला अब कोई नहीं है । अपनी आत्मा पर हाथ रख कर एक बार उनके भविष्य के बारे में सोचिये कि उनकी जिंदगी अब कैसे चलेगी ।

अगर इतना पढ़ने सुनने और देखने के बाद भी आपका दिल नहीं पसीजता है तो एक बार बिना मास्क निकलिये और जरा आपके नजदीकी पुलिस थाने के सामने से बिना मास्क निकल कर देखिये और जब हाथ में २ हज़ार का चालान होगा तो दीजियेगा केंद्र सरकार और राज्य सरकार को गाली। फिर सोशल मीडिया पर एक दो पोस्ट मोदी या फिर आपके राज्य के मुख्यमंत्री जी के विरोध में डाल कर सो जाइएगा।

क्योकि आप को ये बात तभी समझ में आएगी जब आप इस बीमारी कि चपेट में आएंगे, आपकी साँस उखड़ेगी और भगवान नजर आएंगे। और भगवान ना करे कि आपको कुछ हो जाये तो आपके परिवार कि देखभाल कौन करेगा। जरा इस बारे में गंभीरता से सोचिये ।

India Shutdown Chain And Padlock Lock Down, With India Flag Stock  Illustration - Illustration of crisis, clip: 176814680

मंडावा कनेक्ट इस संकट कि घडी में आप सभी लोगो से हाथ जोड़ कर अपील करता है कि आप राज्य सरकार द्वारा बताये गए निर्देशों का पालन करे और सुरक्षित अपने घरो में रहे । ये मुश्किल समय है, बीत जायेगा और जिंदगी फिर मुस्कुराएगी।

Featured post

एक तो कोरोना, उस पर पानी की किल्लत, कहाँ से धोये हाथ


पूरा देश आज कोरोना महामारी की चपेट में है। पुरे देश में रोजाना लगभग चार लाख से ज्यादा नए कोरोना मरीज सामने आ रहे है। दो लाख से ज्यादा लोग इस महामारी की चपेट में आकर अपनी बहुमूल्य जान गवां चुके है। खास बात ये है की इस बार इस महामारी का जोर गावों में बहुत ज्यादा है। अमूमन हर गांव में लोग खांसी और बुखार से जूझ रहे है । राजस्थान के झुंझुनू जिले से चिंता जनक खबरे ये भी आ रही है कि इस बार गावों में लोग कोरोना बीमारी का शिकार होकर अपनी जान गँवा रहे है । झुंझुनू ग्रामीण जिसमे मलसीसर बिसाऊ और मंडावा के क्षेत्र आते है, इन गावो में इस बार इस बीमारी का प्रकोप बहुत जोरो पर है । पिछले सप्ताह झुंझुनू के छापोली गांव में एक साथ 7 लोगो कि मौत के बात प्रशासन ने जब गांव में मेडिकल टीम भेज कर टेस्टिंग करवाई तो लगभग ३५ लोगो में इस बीमारी कि पुष्टि हुयी। आननफानन में गांव को सील किया गया और इलाज शुरू किया गया, अभी बीमारी कण्ट्रोल नहीं हुयी है और 2 और लोगो कि मौत कि खबर आयी है , हालाँकि प्रशासन इसे कोरोना से मौत नहीं मन रहा है। ऐसा ही वाकया ग्राम महनसर में सामने आया था ।

मंडावा के निकटवर्ती गांव तेतरा में भी कमोबेश हालत इसी तरह के है , लगभग हर घर में लोग बुखार और खांसी से पीड़ित है और ऊपर से सितम ये हुआ कि गांव के मुख्य कुए जिसके जरिये गांव को पानी कि सप्लाई होती थी , उसकी मोटर जल गयी। आज लगभग तीन दिन हो चुके है, इसका कोई समाधान नहीं निकला जा सका है , इस बार लॉक डाउन में मोटर वाइंडिंग कि दुकाने नहीं खुलने कि वजह से मोटर को ठीक नहीं करवाया जा सका है। ग्राम के ही सेवाभावी श्री राधेश्याम जी ने गांव वालो के साथ मिलकर मोटर को कुए से निकल कर बहार तो रख दी है लेकिन लॉक डाउन के प्रोटोकॉल के कारन उसे ठीक नहीं करवा पा रहे है। वही गांव में कुम्भाराम लिफ्ट योजना के तहत आने वाला पानी ६ माह से नहीं आ रहा है । ग्राम वासियो का कहना है कि शायद पाइपलाइन में किसी पेड़ कि जड़ फंस जाने के कारण पानी आना बंद हो गया है।

Will Covid-19 force India to face up to its water crisis? | The Third Pole

इस संकट के समय में गांव के भामाशाह श्री प्रताप सिंह शेखावत ने अपने खेत में लगे कुए में से पानी का पाइप लगाकर इसका आस्थयी समाधान निकलने की कोशिश की है लेकिन ये भी इस भीषण गर्मी और कोरोना के कारण नाकाफी है।
मंडावाकनेक्ट इस संकट के समय में पंचायत समिति सदस्यों , प्रधान जी , यहाँ की लोकप्रिय सांसद रीटा चौधरी , माननीय सांसद मोहदय श्री नरेंदर कुमार और बाकि जिम्मेदार व्यक्तियों से अपील करता है की ग्राम वासियो को इस संकट के समय में मदद मुहया करवाए और तुरंत नयी मोटर लगवा कर इस समस्या का समाधान करे।
निचे देखे वीडियो जो की मंडावा न्यूज़ अपडेट पेज से साभार लिया गया है।

Featured post

कसमकश


हर पल एक क़सक
तेरे पलकों की छाँव में
जीवन का नवरंग
छुपा दू सतरंगी सपने मेरे
जो देखे थे साथ तेरे।

कसमकश
जिन्दा रहने की
हौसला
लड़ने का ज़माने से
हो रहा दरबदर
वक्त के संग।

मांझी
ले पतवार
खे रहा उलटी नैया जीवन की
में छटपटा रहा
अपने जीवन के डोर पकडे
जीने का एक सहारा
तेरे पलकों में छुपे
सपनो को पाने की चाह।

मिलना कभी
फिर दिखाऊंगा जख्म तुझे
जो दिए इस ज़माने ने
तुझे चाहने की सजा थी
छुड़ा लूंगा अपने सपनो को
जो कैद है
तेरी नशीली आँखों में
जो दिखती थी
ख्वाब सदा
जिंदगी जीने का। ।

Photo by Marcelo Chagas on Pexels.com
Featured post

उत्तराखंड के चमोली में कुदरत का क़हर, कई लोगों की जान जाने की ख़बर।


उत्तराखंड (Uttarakhand) के चमोली (chamoli) जिले के रैनी में ग्लेशियर (glacier) फटने की ख़बर आई है। ग्लेशियर फटने से धौली नदी में बाढ़ आई है और चमोली से हरिद्वार तक खतरा बढ़ गया है।   स्टेट कंट्रोल रूम के अनुसार, गढ़वाल की नदियों में पानी ज्यादा बढ़ा हुआ है। करंट लगने से कई लोग लापता बताए जा रहे है

चमोली के रिणी गांव में ऋषिगंगा प्रोजेक्ट (Rishi Ganga Project) को भारी बारिश व अचानक पानी आने से क्षति की संभावना है। नदी में अचानक पाने आने से अलकनंदा के निचले क्षेत्रों में भी बाढ़ की संभावना है। तटीय क्षेत्रों में लोगों को अलर्ट किया गया है। नदी किनारे बसे लोगों को क्षेत्र से हटाया जा रहा है।

अगर आप प्रभावित क्षेत्र में फंसे हैं, आपको किसी तरह की मदद की जरूरत है तो कृपया आपदा परिचालन केंद्र के नम्बर 1070 या 9557444486 पर संपर्क करें। कृपया घटना के बारे में पुराने वीडियो से अफवाह न फैलाएं।

नीचे वीडियो में देखें इस बाढ़ का भयानक मंजर

Featured post

भारत मे मल्टी लेवल मार्केटिंग का भविष्‍य क्या है, जाने कुछ ज़रूरी बातें


How does Multi Level Marketing Business Model Work?

भारत मे मल्टी लेवल मार्केटिंग लेवल यानि की MLM कोई नया कॉन्सेप्ट नही है जिसे हम आपको आज अवगत करवा रहे है, क्योकि इसका सीधा मतलब है की किसी भी इंसान को अपने लॉजिक से कोई प्लान जोइन करवाना और अपने और अपने साथ जुड़े हुए लोगो की इनकम करवाना. मतलब बिल्कुल साफ है इन सब प्लानो मे एक लीडर होता है जो अपने नीचे कुछ लोगो को जोड़ता है और उनके द्वारा किए गये इनवेस्टमेंट से कुछ इनकम कमाता है, फिर जब और लोग उन लोगो के नीचे जुड़ते है तो उपर की लाइन वाले सभी लोगो को उसका प्रॉफिट मिलता है. इस तरह एक चैन सिस्टम स्टार्ट होता है जिसमे हर एक इंसान अपने नीचे कुछ लोग जोड़ कर अपना इनवेस्ट किया हुआ पैसा वापस निकलना होता है |

Multi level marketing model. Photo by Pexels.com

आप मे से बहुत से लोग शायद इसके बारे मे बात नही करना चाहेंगे क्योकि लोगो के मान मे आम धारणा है कि इस तरह के मल्टी लेवेल मार्केटिंग प्लान या नेटवर्क मार्केटिंग प्लान मे कुछ ही लोग पैसा कमा पाते है और बाकी लोगो को नुकसान ही होता है. कुछ हद तक ये बात सही भी हो सकती है लेकिन इसके पीछे भी काई कारण हो सकते है जैसे कि:

  • किसी बहुत ज़्यादा पुराने प्लान मे जोइन करना जिसमे बहुत से लोग पहले ही जुड़ चुके हो – क्योंकि एसे प्लानो मे आपसे पहले बहुत लोग जुड़ चुके होते है और नये लोगो को जोड़ना बहुत मुश्किल होता है.
  • आपकी टीम मे निस्क्रिय मेंबर होना – अगर अपने अपनी टीम एसे लोगो से बनाई है जो केवल पैसे देकर जुड़ तो सकते है लेकिन आगे नये मेंबर नही जोड़ पाते है तो आपकी इनकम आना रुक जाएगी|
  • प्लान के बारे मे सही जानकारी नही होना – अक्सर लोग शुरू तो कर देते है लेकिन उन्हे इन प्लानो की पूरी जानकारी नही होती है इसी के चलते, पूरा लाभ नही मिल पाता है.

तो एसे ही कई और कारण भी है जिसकी वजह से लोग इन MLM प्लानो के मे पैसा कमा नही पाते है और अपनी मेहनत से कमाया हुआ धन गवा देते है.

MLM fraud gang busted in Hyderabad, Rs 200 Cr seized ...

लेकिन हम इसके भविष्‍य के बारे मे बात करेंगे. क्या भारत मे MLM प्लान का कोई भविष्य है या फिर एक समय के बाद ये सारी कंपनिया बंद हो जाएँगी. क्योकि अक्सर देखा जाता है की इस तरह की कंपनिया कुछ लोगो को प्रॉफिट करवा कर मार्केट से गायब हो जाती है, और रह जाते है कुछ छोटे और मासूम निवेशक जो एसे लोगो के बहकावे मे आकर अपने सुनहरे भविष्य के सपने देख लेते है और अपना कीमती समय और पैसा सब गवाकर ठगा सा महसूस करते है. बीते कुछ साल पहले इन कंपनियो का स्वर्णिम काल था जब इस तरह की कंपनिया कुकुरमुत्ते की तरह उग आई थी. इन कंपनिया मे लोगो ने बहुत से पैसे इनवेस्ट किए और बाद मे सिर्फ़ पछताने के अलावा कुछ भी नही मिला.
साल 2019 मे eBIZ नामक कंपनी ने लगभग 17 लाख लोगो से 5000 Cr. की ठगी की और बाद मे फरार हो गयी थी. पूरी स्टोरी पढ़ने के लिए यहा क्लिक करे. MLM के बारे मे रिसर्च करने वाली फर्म strategy india dot com ने एसे सेंकडो SCAM की लिस्ट अपनी वेबसाइट पर डाल रखी है जिसे देखकर सहज ही इस बात का अनुमान लगाया जा सकता है की ये किस तरह से लोगो को अपने जाल मे फसांती है और पैसे बना कर फुर्र हो जाती है. पूरी लिस्ट यहा पर देखे.
तो सरकार ने इन कम्पनियो से निपटने के लिए क्या किया
साल 2015 मे केंद्रीय सरकार ने इस तरह की कंपनियों पर नकेल कसने के लिए एक कमेटी का गठन किया जिसने इन कंपनियों पर कड़ी नज़र रखना शुरू किया और बहुत सी कंपनियों पर कार्यवाही शुरू कर दी है और उसके बाद ये दौर लगभग ख़तम या फिर बहुत कम हो गया है.

Continue reading “भारत मे मल्टी लेवल मार्केटिंग का भविष्‍य क्या है, जाने कुछ ज़रूरी बातें”
Featured post

गहलोत सरकार ने लिया मृत्युभोज बंद करने का बड़ा फैसला, पंच, सरपंच और पटवारी होंगे जिम्मेदार


कल एक ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए राजस्थान की गहलोत सरकार ने राजस्थान में मृत्युभोज कुप्रथा को खत्म करने के लिए इस पर पूर्ण रूप से पाबंदी लगाने का फैसला लिया है| अगर कही भी मृत्यु भोज किया जाता है तो इसकी सुचना उस पंचायत के पंच, सरपंच और पटवारी सरकार को देंगे और अगर ऐसा नहीं किया गया तो उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही का प्रावधान रखा गया है|

Publication advertisement by Government of Rajasthan

मंडावा कनेक्ट राजस्थान सरकार की इस पहल का समर्थन करता है और बधाई देता है. ये एक ऐसा निर्णय है जिस से बहुत से गरीबों का जीवन नरक होने से बचेगा और वे कर्ज के बोझ तले नहीं दबेंगे. मृत्युभोज पर प्रतिबंध का कानून तो 1960 का है, लेकिन कई जगह इसका पालन नहीं हो रहा था. इसके अलावा पहली बार पंच-सरपंच और पटवारी की जवाबदेही तय की गई है. 

इससे शर्मनाक कुछ भी नहीं हो सकता: 
किसी घर में खुशी का मौका हो, तो समझ आता है कि मिठाई बनाकर, खिलाकर खुशी का इजहार करें, खुशी जाहिर करें. लेकिन किसी व्यक्ति के मरने पर मिठाईयाँ परोसी जायें, खाई जायें. इससे शर्मनाक कुछ भी नहीं हो सकता. 

क्या लग पाएगा कुरीती पर अंकुश? 
रिश्तेदारों को तो छोड़ो, पूरा गांव का गांव व आसपास का पूरा क्षेत्र टूट पड़ता है खाने को! तब यह हैसियत दिखाने का अवसर बन जाता है. लेकिन अब राज्य सरकार के निर्देश पर पुलिस मुख्यालय ने इस कुरीती को रोकने के लिए अपनी कमर कसना शुरू कर दी है. ऐसे में देखने वाली बात तो यह होगी कि पुलिस इस कुरीती को रोकने में कितना कामयाब हो पाती है. 

सरकारी आदेश की प्रतिलिपि निचे दी गयी है.

सरकार के इस फैसले पर आपकी क्या राय है ? हमें कमेंट करके बताये .

Featured post

वीर शिरोमणि महा पराक्रमी महाराज पृथ्वीराज चौहान जयंती पर हार्दिक शुभकामनाये!!


चार बांस चौबीस गज, अंगुल अष्ट प्रमाण!
ता ऊपर सुल्तान है, मत चुके चौहान !!

भारतीय सनातन संस्कृति के रक्षक, शब्द भेदी बाण कला के ज्ञाता , वीरशिरोमणि महा पराक्रमी महाराज पृथ्वीराज चौहान जयंती पर हार्दिक शुभकामनाये और कोटि कोटि प्रणाम !!

World Environment Day – 5 June


Mandawa Connect wishes all to a happy World Environment Day!!

आइये, आप और हम मिलकर इस धरती को बचाये !
आप अपने जीवन में जितने लोगो से प्यार करते है उतने पेड़ जरूर लगाए और उनकी देखभाल जीवन भर करे ।

A WordPress.com Website.

Up ↑